You are here

धारा 246

  • खंड (2) और (3) में किसी बात के होते हुए भी, संसद के पास सांतवी अनुसूची (जिसे संविधान में “संघ सूची” कहा गया है) की पहली सूची में शामिल मामलों के संबंध में कानून बनाने का विशेषाधिकार होगा।
  • खंड (3) में कीसी बात के होते के होते हुए भी, संसद और, और खंड (1) के अध्यधीन किसी राज्य के विधान मंडल को भी सांतवी अनुसूची (जिसे संविधान में “संघ सूची” कहा गया है) की तीसरी सूची में शामिल मामलों के संबंध में कानून बनाने का विशेषाधिकार होगा।
  • खंड (1) और (2) के अध्यधीन किसी राज्य के विधान मंडल के पास सांतवी अनुसूची (जिसे संविधान में “संघ सूची” कहा गया है) की दूसरी सूची में शामिल मामलों के संबंध में ऐसे राज्यों अथवा उसके किसी भाग के संदर्भ में कानून बनाने का विशेषाधिकार होगा।
  • संसद को भारत के किसी भाग जो किसी राज्य के अंतर्गत नहीं है, के किसी भी विषय के संबंध में कानून बनाने का अधिकार है चाहे वह मामला राज्य सूची में शामिल क्यों न हो।