You are here

मुख्‍य पृष्‍ठ भूजल प्रबंधन अध्ययन

भूजल प्रबंधन अध्ययन

भूजल संसाधन गत्यात्मक अवस्था में प्राप्त होता है अतः इसमें समय-समय पर परिवर्तन होते रहते हैं। पिछले अध्ययनों की तुलना में भूजल प्राप्ति, गुणवत्ता और मात्रा के संदर्भ में उपलब्धता और इस्तेमाल के बारे में भूजल परिदृश्य को अद्यतन करने के लिए भूजल प्रबंधन अध्ययन (जीडब्ल्यूएमएस) अनिवार्य है। जीडब्ल्यूएमएस के उद्देश्य इस प्रकार हैं-

  1. गुणवत्ता और मात्रा के संबंध में भूजल क्षेत्र की अद्यतन रूपरेखा तैयार करना।
  2. भूजल परिदृश्य को प्रभावित करने वाले कारकों का निर्धारण।
  3. भूजल से संबंधित समस्याओं और मुद्दों की पहचान तथा कार्यान्वयन के लिए उपयुक्त उद्देश्य आधारित प्रबंधन नीति प्रदान करना।
  4. भूजल क्षेत्र के बारे में मौजूदा डाटाबेस को अद्यतन करना।
  5. भूजल संभावित क्षेत्रों को रेखांकित करना।
  6. विशिष्ट समस्याओं के लिए उपयुक्त कार्यवाई/उपाय/प्रशासनिक और तकनीकी कदमों के बारे में अनुशंसा करना।

“अतिदोहित” और नाजुक क्षेत्रों, कठोर चट्टानी क्षेत्र, तटीय क्षेत्र, जनजातीय तथा सूखा ग्रस्त क्षेत्र, प्राकृतिक संदूषित क्षेत्र, शहरी क्षेत्र तथा जलभराव आदि वाले क्षेत्रों को प्राथमिकता दी जाती है।